Blog

रमल प्रश्नावली

User Rating:  / 12
PoorBest 

रमल प्रश्नावली

 Ramal Astrology

इस प्रश्नावली का तरीका है कि चंदन की लकड़ी का चौकोर पासा बनाकर उस पर १, २, ३, ४ खुदवा लें। फिर अपने कार्य का चिंतन करते हुए तीन बार पासा छोड़ें। उसका जो अंक आये, उसी अंक पर फल देखें। यदि किसी के पास पासा नहीं हो तो, नीचे दी गई सारणी में अनामिका अंगुली रखकर उसका फल देखें।

111

131

211

231

311

331

411

431

112

132

212

232

312

332

412

432

113

133

213

233

313

333

413

433

114

134

214

234

314

334

414

434

121

141

221

241

321

341

421

441

122

142

222

242

322

342

422

442

123

143

223

243

323

343

423

443

124

144

224

244

324

344

424

444

१११॰ आपकी मनोकामना पूर्ण होगी।
११२॰ आप जो निर्णय ले रहे हैं उस पर पुर्विचार कर लें।
११३॰ दौड़-धूप करके और कुछ व्यय करके गया धन प्राप्त होगा।
११४॰ विश्वास, धैर्य, बुद्धि और विवेक से सुख व आनन्द की प्राप्ति होगी।
१२१॰ अपने आचरण को सही दिशा में रखें, बुरे लोगों की संगति न करें।
१२२॰ शुभ समय शीघ्र आने वाला है। ईश्वर उपासना करें।
१२३॰ ठंडे दिमाग से सोचें, आपने विपत्तियों को स्वयं निमंत्रण दिया है। यदि सच है तो भविष्य में सबक लें व विवेकी बनें। "संकट-नाशन-गणेश-स्तोत्र" का पाठ करें।
१२४॰ संतोष से बड़ा कोई धन नहीं। परिस्थितियों को सुधारने का प्रयास करें।
१३१॰ जो कुछ प्रत्यक्ष है, वही सत्य है कल्पना व भावुकता में न बहें।
१३२॰ वर्तमान में जीने का अभ्यास करें। कल की चिंता छोड़ दें।
१३३॰ अटल आत्मविश्वास का फल मीठा होता है।
१३४॰ भाग्य का निर्माण आपके हाथ में है। सच्चाई और ईमानदारी का अवलम्बन न छोड़ें।
१४१॰ शुभ समय शीघ्र आपके दरवाजे पर है। "ॐ गं गणपतये नमः" का जप करें।
१४२॰ कर्म का फल है। पुण्य कार्य करें। "रुद्राष्टक" का पाठ करें।
१४३॰ निंदा, फरेब, कुसंगति से दूर रहकर न्यायप्रिय ढंग से जीवन जीयें, सफल होंगे।
१४४॰ प्रसन्नता के पीछे न दौड़ें। यदि कार्य श्रेष्ठ है तो धन-मान मिलेगा।
२११॰ सोच-समझकर कार्य करें वरना पछतावा होगा।
२१२॰ धन-सम्पत्ति मिलने का योग है। "श्रीसूक्त" का पाठ करें।
२१३॰ घर-परिवार में सुख-समृद्धि तथा जीवन में कोई शुभ कार्य होने वाले होंगे। "सर्व मंगल मांगल्ये॰॰॰॰॰" का जप करें।
२१४॰ दिन-दोगुनी, रात-चौगुनी तरक्की होने वाली है। दीन-हीन की सेवा करें।
२२१॰ दिखावा, प्रदर्शनप्रियता, झूठी महत्त्वकांक्षा के फेर में न पड़ें, अहित होगा।
२२२॰ दीन-हीन वर्ग की सेवा करें। भाग्य स्वयं चल कर आयेगा।
२२३॰ दुर्गा-सप्तशती का पाठ करें, कार्य सिद्ध होगा।
२२४॰ धैर्य रखें, बुरा समय जाने वाला है। "गजेन्द्र-मोक्ष" का पाठ करें।
२३१॰ प्राण-प्रण से अपने कार्यों में लग जाओ, सफलता कदम चूमेगी। "भगवान विष्णु" के मन्दिर में ऊँचाई पर पीली ध्वजा लगायें।
२३२॰ मन को नियंत्रण में रखें, वरना मुश्किल पैदा होगी।
२३३॰ ईश्वर का नाम लें, विपत्ति टल जायेगी। "कृष्णाय वासुदेवाय हरये परमात्मने। प्रणतः क्लेश नाशाय गोविन्दाय नमो नमः।।" का जप करें।
२३४॰ तुम्हारा मित्र या साथी वफादार है, विश्वास कीजिए।
२४१॰ फालतू मित्रों के पीछे पागल मत बनो, जो तुम्हारा होने का दम भरते हैं, वह समय आने पर नाश करेंगे।
२४२॰ निराशा का दूसरा नाम मृत्यु है। निराश होने की आवश्यकता नहीं। भाग्य वाम-मार्गी है। "गणेश-सहस्त्रनाम" का जप करें।
२४३॰ भाग्य परिवर्तन का समय आ गया है। शीघ्र समृद्धि मिलने वाली है। "महा-लक्ष्मी-अष्टक" का पाठ करें।
२४४॰ आप जिस कार्य में लगे हैं, उसे विवेक-बुद्धि से लें, उसमें पूर्ण सफल होंगे।
३११॰ भाग्य उदय का समय आ गया है, हर प्रयत्न सफल होंगे। "श्रीमहा-लक्ष्मी" की साधना करें।
३१२॰ लोग आपसे फायदा उठा रहे हैं। सावधान रहें।
३१३॰ संतप्त व्यक्ति या दुःखी प्राणी शीघ्र छुटकारा पा लेगा।
३१४॰ दुर्विचार को अपने मन से निकाल दें तो भाग्यशाली बने रहेंगे।
३२१॰ समय आने दीजिए, इंतजार करें, प्रचुर मात्रा में धन प्राप्त होगा।
३२२॰ नया काम न करं, समय ठीक नहीं है।
३२३॰ अपनी देखभाल करें।
३२४॰ आपका भाग्य उदय, अपने जन्म स्थान पर होगा। जन्म स्थान से दूर न जाएं।
३३१॰ आपके शत्रु आपका अहित करने का प्रयास करेंगे। हनुमान चालिसा का पाठ करें।
३३२॰ झूठ, मिथ्या संदेह को हृदय से निकाल दें तो कार्य शीघ्र सिद्ध होगा।
३३३॰ आप परिवर्तन चाहते हैं तो कीजिए, परिवर्तन के परिणाम सुखद व शुभ होंगे।
३३४॰ धुन के पक्के बने रहिये। अर्जुन के समान लक्ष्य निर्धारित करें। सफलता प्राप्त होगी।
३४१॰ शत्रुजन की परवाह न करें। घबराइए नहीं। सत्य की जीत होगी।
३४२॰ भौतिक वस्तुएं क्ष-भंगुर है, उस पर भूल कर भी स्वयं को न्यौछावर न करें।
३४३॰ कुआं खोदने वाले के लिए आप खाई खोदें, यह ठीक नहीं। जो भी क्लेश पहुंचा रहा है, उसे न मारें, न ही दुत्कारें। उसे उचित सलाह दें व न्याय पथ दिखलाएं।
३४४॰ अब आप ईश्वर की कृपा व सहायता के पात्र होंगे।
४११॰ धन-सम्पत्ति में वृद्धि होगी। आदर्श जीवन जीयेंगे।
४१२॰ व्यवहार में सौम्यता, सुघड़ता लायें, कार्य पूर्ण तभी होंगे।
४१३॰ व्यर्थ का जोखिम न उठायें।
४१४॰ निर्णय स्वयं लें, उत्तम होगा। आपका स्नेह अपनत्व क्या पात्रों के बनने योग्य है।
४२१॰ आश्वस्त रहें, आप समृद्धशाली होंगे।
४२२॰ जो हो चुका उसका क्या रोना, पुनः अपने कार्यों में जुट जाएं सफल होंगे।
४२३॰ आप सच में सौभाग्यशाली हैं, शुद्ध आचरण हमेशा रखें, सफल रहेंगे।
४२४॰ विपत्ति आने वाली है, "विष्णु-सहस्त्रनाम" का पाठ करें।
४३१॰ संतोष से बढ़कर कोई खजाना नहीं, उतावलेपन से दूर रहें।
४३२॰ समय सर्वथा अनुकूल व शुभ है। लाभ उठायें, श्रेष्ठ भविष्य की ओर बढ़ेंगे।
४३३॰ कुछ समय में समय अनुकूल होगा।
४३४॰ वक्त पर मित्र काम आयेंगे।
४४१॰ समय आ गया जब परिश्रम से आगे बढ़ेंगे, एकाएक भाग्य बदलेगा। ईश्वर उपासना करें।
४४२॰ आप यदि जागरुक हैं तो अपने विरुद्ध षडयंत्रकारियों पर विजय पायेंगे।
४४३॰ आपके भाग्य में परिवर्तन आने वाला है। आश्वस्त रहें।
४४४॰ यदि भाग्य को आगे बढ़ाना चाहते हैं तो पीछे मुड़ कर न देखें। सफलता दौड़ कर पास आयेगी।

Quick Menu

Quick Contact

Our Services

News & Events

 

  • Astrological education with professionally qualified and experienced astrological educators.

 

  • Faculty members who are active in the astrological community locally, nationally and internationally.

 

  • A school which is internationally recognized.

 

  • A syllabus which is internationally recognized.

 

  • Supervised Distance Education program for the correspondence student

 

  • Structured classes which provide a positive and encouraging learning environment.

 

  • Accessibility to teaching faculty and resources

 

  • Assignments and projects which apply the learned principles and techniques.

 

  • On-going feedback and mentoring

 

Client Testimonials

I am doing Vastu perfectly because of excellent study of ISADS. ------ Indersen Gupta

I am your old student and I have benefited from healing programme. Please start your branch in Mumbai too. ------ Dr. Hemlata Shivale

Angel Healing did miracle in my life, Thanks to Dr. Himani J ------ Meera Sohni